Follow us

19/04/2024 2:40 pm

Search
Close this search box.
Home » News in Hindi » मनोरंजन » अच्छी सूरत को संवारने की जरूरत क्या है, सादगी भी कयामत की अदा होती है – अली जान

अच्छी सूरत को संवारने की जरूरत क्या है, सादगी भी कयामत की अदा होती है – अली जान

चंडीगढ़: रूरल अर्बन हेरिटेज फेस्टिवल में आज की शाम हरियाणवी लोक संगीत व अलीजान के ग्रुप द्वारा सूफी गायन के नाम रही। सूर्य देव की मेहरबानी के चलते परेड ग्राउंड में अपने चौथे दिन रूफ फेस्टिवल गुलजार रहा, दिनभर कला प्रेमियों की चहल कदमी नजर आती रही और जैसे ही शाम हुई तो संगीत के दीवानों ने हरियाणवी लोक संगीत पर खूब डांस किया।

चंडीगढ़ के युवाओं के लिए सूफी बैंड का तजुर्बा माइंड ब्लोइंग रहा। अली जेन के सूफी बैंड ने अच्छी सूरत को समझने की जरूरत क्या है , सादगी भी क़यामत की अदा होती है, से शुरुआत कर सोनी लगदी ओ मैंनूं सोनी लगदी, तुम जो आ जाते हो मस्जिद में अदा करने नमाज,
तू माने या ना माने दिलदारा असां ते तेनु रब मन्या, जैसे सूफी नंबर्स की ताबड़तोड़ परफॉर्मेंस पर युवाओं को नाचने पर मजबूर कर दिया ।

बुधवार को ये खास …..

दोपहर को शहर की महिलाओं की फन पार्टी होगी। रूह फेस्टिवल में , वहीं शाम को जम्मू का लोक संगीत व देर शाम वडाली घराने के सतपाल वडाली की सूफी गायकी से दर्शक रूबरू होंगे ।

dawn punjab
Author: dawn punjab

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS